शनिवार, 27 नवंबर 2010

:- अभ्यर्थना :-

                   मातु भवानी शारदे, दो मुझ को आलंब ! करुं सर्जना काव्य की, तनिक न आए दंभ !
                                          
                   मातु भवानी शारदे, करो विनय स्वीकार ! "सहन" सहज से बढ. चले,ऐसा दो आधार !    
                                                    
                   वन्दन करता भक्ति से, प्रभुवर वीर महान ! भूल न जाऊं पथ कहीं, दो मुझको सदग्यान
                              
                   हाथ जोड. कर चरण में, करूं नमन सौ बार ! मान्झी बन खेते रहो,जीवन की पतवार !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

लिखिए अपनी भाषा में

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.